लैवेंडर के पौधों से निकाला जाने वाला तेल लैवेंडर का तेल कहलाता है। वैसे तो इसे एक प्राकृतिक एंटीसेप्टिक के रूप में सदियों से इस्तेमाल किया जाता आ रहा है। इसमें एंटीसेप्टिक व दर्दनिवारक गुण होते हैं। यही नहीं एंटीसेप्टिक व दर्दनिवारक प्रभाव की वजह से लैवेंडर के तेल को मामूली जलने, कीड़े के काटने या डंक लगने आदि के इलाज में भी इस्तेमाल किया जाता है। जब यह तेल इतना ही लाभदायी है, तो क्यों न इसके फायदों के बारे में और भी विवरण लिया जाए?

तो आइये जानते हैं लैवेंडर ऑयल के ऐसे ही कुछ लाभ के बारे में:

सिरदर्द और माइग्रेन पर असरदार (Effective for Headache and Migraine)

लैवेंडर ऑयल की खुशबू इसे एक उत्तम तंत्रिका टॉनिक बनाता है। यह सिरदर्द, चिंता, अवसाद, तंत्रिका तनाव और भावनात्मक तनाव को ठीक करने में मददगार होता है। यदि आपको कभी भी इस तरह का अनुभव हो, तो लैवेंडर ऑयल की कुछ बूँदें लेकर सूंघें। इससे आपको काफी आराम मिलेगा।

जलने पर इस्तेमाल करें (Lavender Oil for Burns)

यदि आपको चाय बनाते हुए, रोटियां सेंकते हुए या फिर किसी भी वजह से कहीं पर जल गया है, तो जलन के इस दर्द को कम करने के लिए जले हुए भाग पर 2-3 बूंद लैवेंडर तेल को लगायें। साथ ही इसके इस्तेमाल से जलने का कोई निशान भी नहीं रह जाता। लैवेंडर ऑयल बहुत ही बेहतर ढ़ंग से काम करता है।

घाव होने पर (Lavender Oil for Wounds)

लैवेंडर ऑयल का एंटीसेप्टिक गुण इसे घाव कम करने में कारगर बनाता है। लैवेंडर का तेल सेल के विकास को बढ़ा सकता है और घाव भरने में सहायता करता है। इसलिये ही इसे यह घावों, जले हुए और सन बर्न को तेजी से ठीक करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

कीड़े के काटने का सबसे अच्छा घरेलू उपाय (Best Home Remedy for Insect Bites)

मधुमक्खी या किसी भी कीड़े के काटने पर जो खुजलाहट होती है, उसे को कम करने या रोकने के लिये उस जगह पर लैवेंडर के तेल को लगायें। फ़ौरन आराम मिलेगा।

त्वचा के लिए प्रभावी (Skincare with Lavender Oil)

लैवेंडर ऑयल त्वचा रोगों जैसे मुंहासे, जले हुए पर, शुष्क त्वचा, एक्जिमा, खुजली वाली त्वचा, धूप की कालिमा और त्वचा की सूजन आदि के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। और यह काफी असरदार भी है। इसके इस्तेमाल से त्वचा में चमक भी आती है।

रूसी (Effective on Dandruff)

लैवेंडर आयल रुसी रुसी को मिटाने में काफी कारगर होता है। लैवेंडर तेल की कुछ बूंदें, बादाम या वनस्पति तेल (नारियल, तिल आदि) के साथ मिलायें और बालों में लगायें।

आइये जानते हैं लैवेंडर ऑयल के साथ बने एक ऐसे मिरेकल ऑयल के बारे में जिसे आप न सिर्फ त्वचा पर, बल्कि बालों पर भी इस्तेमाल कर सकते हैं। Very Easy “All in One Miracle Oil” for Skin and Hairs, Get Shiny, Long Hairs & Glowing, Radiant Skin

अच्छी नींद के लिये (Effective in Insomnia)

यदि आपकी नींद अक्सर रातों को टूट जाया करती है या फिर आपकी नींद कभी पूरी नहीं होती है, तो इसके लिए लैवेंडर के तेल को हथेली पर लगाएं और इसकी कुछ बूँदें अपने तकिये पर डालें। यह आपको अच्छी नींद लाने में मदद करेगा।

नकसीर (Effective in Nose Bleeding)

गर्मी के मौसम में अक्सर ही अचानक नाक से खून बहने लगता है। जिसे हम नकसीर कहते हैं। नकसीर को रोकने के लिये एक बूंद लैवेंडर के तेल की टिश्यू पर लें और एक बर्फ के टुकड़े पर लपेट दें। इस बर्फ के टुकड़े से घिरे टिश्यू को नाक के नीचे होंठ के ऊपर रखकर तब तक सूंघें जब तक कि नाक से निकलने वाला खून बंद न हो जाये।

आंखों की थकान कम करे (Reduce Eye Fatigue/Stress)

लैवेंडर ऑयल से आंखों की थकान दूर होती है। इसके लिए एक कटोरे में आधा लीटर पानी लें और उसमें कुछ बूंदे लैवेंडर ऑयल की डालें। इससे अच्छी तरह से मिलाने के बाद कॉटन बॉल को इस मिक्सचर में डालें। अब इस कॉटन को आंखों पर 5 मिनट के लिए रखें। इससे आंखों की थकान दूर होगी साथ ही आपको ताजगी का एहसास भी होगा।

मतली आने पर (Nausea)

सफ़र करते हुए या फिर किसी और कारण से मितली आने की समस्या से बचने के लिए जीभ के अंत पर, कान के पीछे या फिर नाभी के चारों ओर लैवेंडर के तेल की बूंदों को लगाने से लाभ मिलता हैं।

फटे या धूप से जले होंठ पर असरदार (Effective on the Chapped lips)

लैवेंडर तेल की बूंदों को फटे और धूप से जले हुए होंठों पर रगड़ने से लाभ पहुंचता है।

रूखी/सूखी त्वचा में जान डाले

सूखी या पपड़ीदार त्वचा पर लैवेंडर का तेल रगड़ें। इससे आपकी त्वचा में जान आ जाएगी और कोमल भी हो जाएगी।