वैसे तो शरीर के अंगों में मोच आना एक आम समस्या है, लेकिन इसके कारण हालात कभी-कभी इतने बदतर हो जाते हैं कि इंसान का चलना-फिरना भी दूभर हो जाता है। यह किसी को भी हो सकता है, फिर भले ही आपका बच्चा साइकिल चलाते वक़्त गिर गया हो और उसे मोच आई हो, हो सकता है एक्सरसाइज या घर का कोई काम करते वक़्त आपका पैर या हाँथ जरा सा इधर-उधर हो गया हो, या फिर चलते वक़्त पैर मुड़ गया हो। कभी-कभी ऐसे समय पर अंगों में मोच आती है, जिस वक़्त डॉक्टर के पास जा सकना हमारे लिए मुमकिन नहीं होता या फिर मरीज़ चलने-फिरने की हालत में नहीं होता।

ऐसे वक़्त में यदि आपको मोच के घरेलू इलाज की जानकारी हो, तो इससे होने वाले दर्द को कम किया जा सकता है। ऐसे में हमारी रसोई में मौजूद सामान हमारी काफी मदद कर सकता है। वैसे तो मोच आना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन यदि समय पर इसका इलाज नहीं किया गया तो ये समस्या बड़ा रूप जरुर ले सकती है। तो आइये जानते हैं घर पर ही मोच का इलाज करने के नुस्खों के बारे में:

बर्फ (Use Icepack for strain)

यदि मोच आने के तुरंत बाद ही उस जगह पर बर्फ लगाकर सिकाई की जाए, तो उस जगह सूजन नहीं आती। दर्द से राहत पाने के लिए बार-बार बर्फ से सिकाई करनी चाहिए। बर्फ से सिकाई करने के लिए बर्फ को कपड़े में लपेटकर इस्तेमाल करें।

हल्दी का इस्तेमाल करे (Use turmeric)

हल्दी लगाने से मोच की सूजन कम की जा सकती है। हल्दी हमारे रसोई में मौजूद एक एंटीसेप्टिक गुणों से भरपूर मसाला है, जिसे हम लंबे समय से इस्तेमाल करते आ रहे हैं। हल्दी में थोड़ा सा पानी मिलाकर इसका पेस्ट बना लें इसे हल्का सा गर्म करके मोच पर लगाएँ। इसके अलावा दूध में हल्दी मिलाकर पीने से भी लाभ मिलता है। यदि आपको मोच के साथ चोट (खून निकल रहा है या फिर छिल गया है) भी आई है, तो ऐसे में एक कटोरी में सरसों का तेल लेकर उसमे हल्दी डालें। इस पेस्ट में लहसुन पीसकर डालें और फिर इसे धीमी अनच पर रख दें। इसे ठंडा करके धीरे-धीरे उस जगह पर लगाएँ। हल्दी और सरसों के एंटी-इन्फ्लेमेट्री और एंटी-फंगल गुण सूजन और घाव को ठीक करने में मदद करेंगे।

तुलसी की पत्तियां (Basil leaves for strain)

हर घर में तुलसी का पौधा होता है। तुलसी के औषधीय गुण आपको इस समस्या से भी आराम दिला सकते हैं। तुलसी की पत्तियों को पीसकर तुरंत चोट वाली जगह पर लगा लें। इससे आपको फौरन आराम मिलेगा।

कपूर और घी (Use Camphor and ghee for strain)

मोच कहीं भी आई हो यदि आप उस स्थान पर कपूर और घी को बराबर मात्रा में मिलाकर लगाएँ और फिर इसे कपड़े से बांध लेते हैं तो इससे मोच के दर्द में फौरन आराम मिलता है।

पान का पत्ता (Betel leaf for strain)

यदि घर में पान का पत्ता है, तो पान के पत्ते को सरसों के तेल में डुबोकर और फिर इस पत्ते को हल्का सा गर्म कर मोच वाली जगह पर बांधने से आराम मिलता है।

नमक और सरसों का तेल (Use Salt and mustard oil for strain)

सरसों के तेल में नमक मिलाकर इसे गर्म करें। इस तेल से मोच वाली जगह पर मालिश करें, इसके बाद उस जगह को कपड़े से बाँधकर सो जाएँ। काफी राहत मिलेगी।

पत्तागोभी (Cabbage for Strain)

पत्तागोभी भी आपको मोच से राहत दिला सकता है। इसके लिए पत्तागोभी को पानी में डालकर उबाल लें। फिर इन पत्तों को ठंडा करके दर्द वाली जगह पर लगा लें और एक कपड़े से बांध दें। ऐसा 2-3 बार करें। इससे मोच कम होगी।

एलोवेरा (Aloe vera for Sprain/strain)

यदि घर में एलोवेरा है, तो मोच वाली जगह पर एलोवेरा जैल लगाएँ। इसके एंटी-ऑक्सीडेंट गुण के कारण मोच की सूजन में आराम मिलेगा।

आराम करें (take rest)

मोच आने के बाद थोड़ा देर आराम करें। यदि आपको टखनों में मोच आई है, तो ऐसे में जरुर कुछ वक़्त के लिए आराम कर लें।

आखिर में

ये सारे ही घरेलू नुस्खे छोटी-मोटी मोच के लिए और डॉक्टर के पास ना जा सकने की स्थिति के लिए ठीक हैं, लेकिन यदि मोच बहुत गंभीर है, तो ऐसे में बिल्कुल भी देरी किये बिना फौरन ही डॉक्टर के पास चले जाएँ।