यूरिक एसिड एवं गाउट (Uric Acid & Gout)

यूरिक एसिड, एक केमिकल है जो बॉडी में प्यूरीन युक्त भोजन के खाने पर उसके टूटने से बनता है। आदर्श परिस्थितियों में अधिकांश यूरिक एसिड रक्त में घुलकर किडनी द्वारा फ़िल्टर होकर मूत्र द्वारा बाहर निकाल दिया जाता है। लेकिन, जब शरीर में अपनी नार्मल मात्रा से अधिक यूरिक एसिड बनने लगता है या किडनी इसे अच्छी तरह फ़िल्टर नहीं कर पातीं तो बॉडी में यूरिक एसिड का लेवल बड़ जाता है।

यूरिक एसिड (uric acid) का बढ़ा हुआ लेवल जिसे मेडिकल की भाषा में हाइपरयूरीसिमिया (hyperuricemia) भी कहते है, गाउट (gout) या गाउटी आर्थेराइटिस (gouty arthritis) का कारण बनता है, जिसमे शरीर के जोड़ों में यूरिक एसिड के क्रिस्टल्स जमा हो जाते हैं। यह यूरिक एसिड क्रिस्टल्स खासतौर पर उँगलियों के किनारों और जोड़ों पर इकट्ठे होते हैं जिससे उनमें सूजन और दर्द शुरू हो जाता है। जैसे जैसे रोग बड़ा और पुराना होता है (severe chronic condition), उस स्थिति में इनका आकार बढ़ा और टेढ़ा मेड़ा हो जाता है। यह एक बहुत ददर्नाक स्थिति है। अगर यूरिक एसिड के बढ़े हुए लेवल को समय रहते कंट्रोल न किया जाए तो यह आगे चलकर किडनी स्टोन्स और किडनी के खराब होने का कारण भी बन सकता है।

यूरिक एसिड का नॉर्मल लेवल (Normal Level of Uric Acid)

यूरिक एसिड का सामान्य लेवल महिलाओं और पुरुषों में अलग अलग होता है। क्लीनिकल रेफरेंस लेबोरेटरी (CRL) के अनुसार:

*पुरुष: 4 – 8.5mg/dL

*महिला: 2.5 – 7.5mg/dL

हालाँकि, अलग अलग लेबोरेटरी में टेस्ट वैल्यूज में थोड़ा अंतर हो सकता है।

यूरिक एसिड: कैसे कंट्रोल करें बड़ा हुआ लेवल (How to Control Increased Uric Acid Level)

आइये जानते हैं ऐसी रेमेडी जो न सिर्फ आपका यूरिक एसिड का लेवल कम करेगी बल्कि आपका वजन कम कर आपको इस समस्या से जल्दी निजात दिलाकर आपका सम्पूर्ण स्वास्थ्य सुधारेगी।

बढ़ती उम्र, अत्यधिक प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ, अधिक मीठी चीज़ों का सेवन और मुख्यतः निष्क्रिय लाइफ स्टाइल और सम्बंधित आदतें जैसे अत्यधिक मदिरा का सेवन, फ़ास्ट फूड्स अधिक खाना आदि ऐसे कुछ कारण हैं जिनसे मुख्य रूप से शरीर में यूरिक एसिड का लेवल बढ़ता है। शरीर में यूरिक एसिड का लेवल अधिक होने पर होने वाली समस्याओं में गाउट (Gout) सबसे अधिक सामान्य है। गाउट रोग में आर्थेराइटिस की तरह जोड़ों में सिर्फ दर्द होने के वजाय उनमें सूजन आ जाती है जो बहुत दर्दकारी स्थिति होती है।

अगर आपके शरीर में यूरिक एसिड का लेवल बड़ा हुआ है तो इसे कम करने के लिए नीचे दिए गए कुछ उपाय अपनायें:

*दिन भर में कम से कम 3 लीटर पानी पियें। साथ ही अन्य ड्रिंक जैसे नारियल पानी और जूस खासतौर पर एप्पल जूस, चेरी का जूस या जामुन का रस इत्यादि का सेवन करें। अधिक से अधिक पाइनेप्पल का जूस (pineapple juice) पियें क्योंकि इसमें एक कम्पाउण्ड ब्रोमेलिन (bromelain) होता है जो यूरिक एसिड का लेवल कम करने में बहुत इफेक्टिव है और गाउट के लक्षणों में राहत देता है। ब्रोमेलिन एक प्रोटिओलायटिक (proteolytic) एंजाइम है जो शरीर को प्रोटीन पचाने में मदद करता है। साथ ही पाइनेप्पलके एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण सूजन और दर्द में राहत देते हैं। इसलिए गाउट या यूरिक एसिड का लेवल हाई होने पर खाना खाने के 1/2 घंटा पहले 1 गिलास पाइनेप्पल जूस पियें।

*ऐसा आहार जिसमें अधिक प्यूरीन, प्रोटीन और शुगर शामिल हो, को पूरी तरह त्याग दें, जैसे मीट, दालें, गोभी, पालक, बीन्स, मटर, अंडा, अंकुरित अनाज, केक, पेस्ट्री, सॉफ्ट ड्रिंक्स इत्यादि पूरी तरह से त्याग दें।

*अगर आपका वजन बढ़ा हुआ है तो उसे नियंत्रित करें इससे आपको गाउट सम्बन्धी लक्षणों में आराम मिलेगा। वजन कम करने के लिए अपने डेली रूटीन में बैलेंस्ड डाइट और एक्सरसाइज शामिल कीजिये।

डिलीवरी के बाद ढीला, लटका पेट, थायरॉइड के कारण मोटापा, जोड़ों में दर्द, डायबिटीज़ को जड़ से ख़त्म करें

*अपने खाने में नमक का कम इस्तेमाल करें। फल, सलाद और खाने में ऊपर से नमक छिड़कना टालें।

*दिन में 2 बार लगभग 5 से 10 ml अच्छी क्वालिटी का एलोवेरा जूस पियें। यह न सिर्फ यूरिक एसिड का लेवल कम करेगा बल्कि इसके एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण सूजन को कम कर दर्द में भी आराम देंगे।

*एप्पल साइडर विनेगर का उपयोग करें। इसमें मौजूद विटामिन C, नेचुरल क्लीनज़र और डिटॉक्सीफायर है, जो बॉडी से हानिकारक टॉक्सिन्स को बाहर निकालने का काम करता है। साथ ही इसमें मैलिक एसिड होता है जो यूरिक एसिड को तोड़कर शरीर से बाहर निकालने का काम करता है। इसलिए अगर आपका यूरिक एसिड लेवल अत्यधिक बड़ा हुआ है तो दिन भर में कम से कम 2 से 3 बार एक एक चम्मच एप्पल साइडर विनेगर पियें।

“एप्पल साइडर विनेगर” उपयोग का सही तरीका, Magical Health Drink for Weight Loss, Healthy Hair & Skin

*विटामिन C, यूरिक एसिड का लेवल कम करने के लिए आदर्श माना जाता है। इसलिए, अपने आहार में विटामिन C युक्त फल और सब्ज़ियाँ जैसे टमाटर, आँवला, जामुन, नीम्बू, मौसम्बी, संतरा, हरी मिर्च इत्यादि शामिल करें।

*सुबह सुबह खाली पेट गर्म पानी में नीम्बू निचोड़ कर पियें। इसमें मौजूद विटामिन C और सिट्रिक एसिड यूरिक एसिड का बड़ा हुआ लेवल कम करते हैं।

*अगर किसी कारणवश नीम्बू पानी पीने में समर्थ नहीं हैं तो विटामिन C, 500mg टेबलेट रोज़ाना कम से कम एक महीने (या ज्यादा) लें। यह आपके बड़े हुए यूरिक एसिड लेवल को कम करेगी।