एसिडिटी कहें, अपच कहें, बदहजमी कहें या कुछ और, एक बार हो जाए तो फिर कहीं चैन नहीं मिलता। यह कोई ऐसी गम्भीर समस्या नहीं है कि हम तुरंत डॉक्टर के पास भागें। इसलिए ज्यादातर लोग घर पर ही इसके ठीक होने को उचित समझते हैं। इसमें कुछ गलत भी नहीं है, लेकिन स्वयं यह ठीक होने में कुछ वक़्त ले सकती है और तब तक आपको उस अप्रिय फीलिंग को सहन करना पढ़ सकता है। यहाँ कुछ ऐसे तरीके बताए गए हैं जिन्हे आप घर पर ही अपनाकर इस समस्या से जल्द से जल्द छुटकारा पा सकते हैं। इनमें से कुछ उपाय हैं (acidity se chutkara ke upaay)

स्वस्थ आदतें अपनायें (Follow healthy habits)

मसालेदार खाने से परहेज करें (Avoid spicy food)

ऐसा खाना बिलकुल त्याग दें जिनमें तेल, मिर्च और मसाले अधिक मात्रा में हों। ऐसे आहार आपकी एसिडिटी की समस्या को बड़ा सकते हैं और पेट में जलन का कारण भी बन सकते हैं। इसके बजाय हल्के फुल्के भोजन जैसे मूंग दाल की खिचड़ी, दलिया इत्यादि का सेवन करें।

खाने के बीच में पानी पीना या कोई अन्य पदार्थ लेना टालें (Avoid drinking water or other liduid during meal)

कुछ लोगों की आदत होती है वो खाने के बीच में 1 से 2 गिलास पानी पी जाते हैं, वहीँ कुछ लोग खाने के साथ या तुरंत बाद चाय, कॉफी या सोडा पीना पसंद करते हैं जो बिलकुल गलत है। खाना खाने के तुरंत बाद आपके डायजेशन सिस्टम में खाना पचाने के लिए कुछ ख़ास एंजाइम निकलते हैं और तुरंत या साथ में पानी या अन्य कोई लिक्विड लेने से यह एंजाइम उस तरल में घुल कर पतले हो जाते हैं जिससे खाना या तो पचता ही नहीं है या कठिनाई से पचता है। इसलिए कहा गया है कि खाने के लगभग 30 मिनिट बाद पानी और कुछ तरल लेना चाहिए।

धीरे और खूब चबाकर खायें (Eat slowly)

अगर आप जल्दी में खाना खा रहे हैं, या यह आपकी आदत में है तो इस आदत को तुरंत बदल दें। खाते समय बात करना भी आपकी बदहज़मी का कारण हो सकता है क्योंकि बात करते हुए आप अक्सर बड़े कौर बगैर ठीक चबाये निगलते हैं जो आपकी इस समस्या को बढ़ा सकता है। इसीलिए आराम से धीरे धीरे एक निवाले को कम से कम 32 बार चबाकर खायें और चबाते वक़्त बात न करें | अगर आप वजन कम करने की कोशिश में हैं वहां यह आदत खूब कारगर है।

खाने और सोने के बीच में कम से कम 2 घंटे का अंतर रखें (keep 2 hrs difference in between diner and sleeping)

खाना खाने के बाद लगभग एक घंटा हलकी चहलकदमी करें। कोई भारी एक्टिविटी न करें। कुछ देर के लिए वज्रासन में बैठें।  यही एक ऐसा आसान है जो खाने के बाद किया जा सकता है और खाने को पचने में सहायक है। सोने जाने से कम से कम 2 घंटे पहले खाना खा लें |

कुछ घरेलू उपाय (Gharelu Nuskhe, Home Hemedies

पिपरमिंट या पुदीना का सेवन (Peppermint or pudina for indigestion

पुदीना बदहज़मी से तुरंत राहत देता है। इसलिए इस स्थिति में पुदीना की पत्तियों को पानी में उबाल कर उनका सेवन इस समस्या से छुटकारा देता है। यह कैप्सूल या ग्रीन टी के रूप में मार्केट में आसानी से उपलब्ध हैं। इसे आप कैप्सूल या लिक्विड, दोनों में से किसी भी रूप में ले सकते हैं। यह सीने में जलन और बदहजमी के कारण होने वाली बेचैनी में तुरंत राहत देता है। इसे पीने के 1 से 2 टैब्लेट्स पानी साथ और अगर लिक्विड है तो कम से कम 1 चम्मच आधे कप पानी में मिलाकर पियें।

हर्बल चाय या काढ़ा पियें (Drink Herbal Concoctions for indigestion

पिपरमिंट, अदरक और दालचीनी पेट की समस्यायों के लिए बहुत कारगर होती हैं | आप इन्हें दुकान से खरीदे हुए टी बैग के रूप में या फिर सूखे रूप को पानी में उबाल कर भी सेवन कर सकते हैं | बिना चीनी डाले थोड़ा स्वाद बढ़ाने के लिए शहद या नीम्बू भी डाल सकते हैं | बाजार में उपलब्ध कैमोमाइल टी भी आप इस समस्या से निजात पाने के लिए पी सकते हैं।

प्रो-बायोटिक्स का सेवन अधिक करें (Increase intake of probiotics incase for indigestion

दही प्रोबायोटिक्स का सबसे उम्दा स्त्रोत माना जाता है। यह वो बैक्टीरिया होते हैं जो आपके हाजमे को ठीक रखने में मददगार होते हैं। पेट में इनकी कमी आपके खाने को सही से नहीं पचने देती और आपको बदहजमी महसूस होने लगती है | बदहज़मी होने पर केले के साथ दही का सेवन करें, आराम होगा। फर्मेन्टेड फ़ूड जैसे इडली और आयल फ्री डोसा भी इसके अच्छे स्त्रोत माने जाते हैं।

एप्पल साइडर विनेगर पीयें (Apple cider vinegar for indigestion, amazing health and beauty benefits)

हालाँकि एप्पल साइडर विनेगर की प्रकृति एसिडिक होती है लेकिन भर भी इसके PH बैलेंसिंग गुण बदहजमी में राहत दिलाते हैं। यह सीने में जलन और एसिडिटी से भी राहत देता है। इसे लेने के लिए 2 से 3 चम्मच एप्पल साइडर विनेगर को 1 गिलास पानी में मिलायें और भोजन से पहले लें।

बेकिंग सोडा का उपयोग करें (baking soda for indigestion)

बदहजमी होने की स्थिति में बेकिंग सोडा से तैयार सॉल्युशन पीने से आपको बहुत हद तक आराम मिलता है। यह सॉल्युशन आपके पेंक्रियाज में स्थित तरल का PH लेवल फिर से नॉर्मल करता है जिससे एसिडिटी से राहत मिलती है। इसे इस्तेमाल करने के लिए 1 गिलास पानी में 1/2 चम्मच बेकिंग सोडा डालें और पी जायें, आपको आराम मिलेगा। दिन में अधिकतम 2 बार पियें।

बदहज़मी में अजवाइन का सेवन (Carom seeds, Bishop’s weed or ajwain

अगर आपको अक्सर बदहज़मी की शिकायत रहती हो और आपका हाज़मा ठीक न रहता हो तो अजवाइन को सेंक कर उसमें थोड़ा सा काला नमक मिलाकर किसी एयरटाइट कंटेनर में रख लें और खाने के बाद दोनों टाइम एक एक चम्मच अच्छी तरह चबा चबा कर खायें।

सौंफ का सेवन करें (Fennel Seeds for indigestion)

सौंफ, सदियों से अपच या बदहज़मी की समस्या में उपयोग होती आ रही है। इसलिए खाने के बाद इसका नियमित सेवन करने की आदत डालें। अगर बदहज़मी की शिकायत बहुत बढ़ गई हो तो लगभग 1 चम्मच सौंफ 1 गिलास पानी में उबालें और उसमे थोड़ा सा अदरक किस कर डालें। 5 मिनिट के लिए उबालें। इसके बाद इसे चाय की तरह पियें। अपच की समस्या में तुरंत आराम मिलेगा।